जल्दी कीजिए

diwali 2022

Diwali 2022

Diwali शरद ऋतु (उत्तरी गोलार्द्ध) में हर वर्ष मनाया जाने वाला एक प्राचीन सनातन संस्कृति का त्यौहार है। diwali कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है diwali भारत के सबसे बड़े और सर्वाधिक महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। diwali दीपों का त्योहार है। आध्यात्मिक रूप से यह 'अन्धकार पर प्रकाश की विजय' को दर्शाता है diwali 2022। 


भारतवर्ष में मनाए जाने वाले सभी त्यौहारों में diwali का सामाजिक और धार्मिक दोनों दृष्टि से अत्यधिक महत्त्व है। इसे दीपोत्सव भी कहते हैं। ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ अर्हात् (हे भगवान!) मुझे अन्धकार से प्रकाश की ओर ले जाइए। यह उपनिषदों की आज्ञा है। इसे सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं। जैन धर्म के लोग इसे महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में मनाते हैं, तथा सिख समुदाय इसे बन्दी छोड़ दिवस के रूप में मनाता है।

माना जाता है कि Diwali के दिन अयोध्या के राजा राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे। अयोध्यावासियों का हृदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से प्रफुल्लित हो उठा था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीपक जलाए। कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है Diwali यही चरितार्थ करती है- असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय। 

Diwali स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही  Diwali की तैयारियाँ आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफेदी आदि का कार्य होने लगता है। लोग दुकानों को भी साफ-सुथरा कर सजाते हैं। बाजारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है।  Diwali से पहले ही घर-मोहल्ले, बाजार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।


History diwali 2022 

Diwali का इतिहास रामायण से भी जुड़ा हुआ है, ऐसा माना जाता है कि श्री राम चन्द्र जी ने माता सीता को रावण की कैद से छुटवाया था, तथा फिर माता सीता की अग्नि परीक्षा लेकर 14 वर्ष का वनवास व्यतीत कर अयोध्या वापस लोटे थे। जिसके उपलक्ष्य में अयोध्या वासियों ने दीप जलाए थे, तभी से diwali का त्यौहार मनाया जाता है। लेकिन आपको यह जानकर बहुत हैरानी होगी की अयोध्या में केवल 2 वर्ष ही diwali मनायी गई थी। 


Hindu Religion diwali 2022

प्राचीन हिंदू ग्रन्थ रामायण में बताया गया है कि, कई लोग diwali को 14 साल के वनवास पश्चात भगवान राम व पत्नी सीता और उनके भाई लक्ष्मण की वापसी के सम्मान के रूप में मानते हैं।अन्य प्राचीन हिन्दू महाकाव्य महाभारत अनुसार कुछ diwali को 12 वर्षों के वनवास व 1 वर्ष के अज्ञातवास के बाद पांडवों की वापसी के प्रतीक रूप में मानते हैं। कई हिंदु diwali को भगवान विष्णु की पत्नी तथा उत्सव, धन और समृद्धि की देवी लक्ष्मी से जुड़ा हुआ मानते हैं। 

Diwali का पांच दिवसीय महोत्सव देवताओं और राक्षसों द्वारा दूध के लौकिक सागर के मंथन से पैदा हुई लक्ष्मी के जन्म दिवस से शुरू होता है। diwali की रात वह दिन है जब लक्ष्मी ने अपने पति के रूप में विष्णु को चुना और फिर उनसे शादी की। लक्ष्मी के साथ-साथ भक्त बाधाओं को दूर करने के प्रतीक गणेश; संगीत, साहित्य की प्रतीक सरस्वती; और धन प्रबंधक कुबेर को प्रसाद अर्पित करते हैं। कुछ diwali को विष्णु की वैकुण्ठ में वापसी के दिन के रूप में मनाते है। मान्यता है कि इस दिन लक्ष्मी प्रसन्न रहती हैं और जो लोग उस दिन उनकी पूजा करते है वे आगे के वर्ष के दौरान मानसिक, शारीरिक दुखों से दूर सुखी रहते हैं।


diwali 2021
diwali 2022


diwali 2021
diwali 2022


diwali 2021
diwali 2022


diwali 2021
diwali 2022



diwali 2022


 

Read also क्लिक करे और भी जानकारी प्राप्त करे 


आप इस पोस्ट में दोबारा आइयेगा क्योकि इन सभी पोस्ट में हमेश होते रहते है।

आप सभी का हमारे वेबसाइट पर आने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ऐसी ही gk and currunt qustion के लिए आते रहिये और इस पोस्ट को शेयर कीजिये अपने ग्रुप में वाट्सएप्प पे फेसबुक पे और एक दूसरे की हेल्प कीजिये धन्यवाद। 

हमसे 24 घंटे जुड़ने के लिए और हर एक जानकारी के लिए  हमारे टेलीग्राम चैंनल को ज्वाइन करे और हमेशा अपडेट होते रहे ?




अगर बिद्यार्थियो इस साइट से कोई भी दिक्कत या हेल्प या जानकारी की जरुरत है तो आप सब हमारे कॉन्टेक्ट पेज को ओपन करे और हमारे ईमेल पर भेजे धन्यवाद।