जल्दी कीजिए

amazing facts in hindi

Amazing facts in hindi इसे जानकर आप चौक जायेंगे। 

कुदरत की बनाई ये दुनिया जितनी खूबसूरत है, उतनी ही रहस्यमय और रोचक भी है। आपने इस दुनिया से जुड़े कई ऐसे रोचक तथ्यों के बारे में सुना होगा, जो लोगों को हैरान कर देते हैं। इसी कड़ी में आज हम आपको कई ऐसे ही रोचक तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसे जानने के बाद शायद आप उसपर यकीन करने से पहले कई बार सोचेंगे। amazing facts in hindi


1. Interesting facts about india

amazing facts in hindi
amazing facts in hindi

शतरंज दुनिया के सबसे ज्यादा दिमागी कसरत कराने वाले खेलों में से एक है । मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि शतरंज खेलने से दिमाग की बैद्धिक क्षमता में सुधार आता है और जटिल प्रश्नों को सुलझाने की शक्ति बढ़ती है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि दुनिया में अंग्रेजी भाषा में छपी दूसरी किताब शतरंज के बारे में थी। शतरंज का अविष्कार भारत में हुआ था। 
amazing facts in hindi


2. Interesting facts in hindi
\
amazing facts in hindi
amazing facts in hindi

आपको जानकर हैरानी होगी की भारत के महाराष्ट्र राज्य का राजकीय पक्षी हरियल एक ऐसा पक्षी है। जो अपना पैर कभी धरती पर नहीं रखता है. इन पक्षियों को ऊंचे-ऊंचे पेड़ वाले जंगल पसंद हैं। यह अक्सर अपना घोंसला पीपल और बरगद के पेड़ पर बनाते हैं. अधिकतर हरियल पक्षी झुंड में ही पाये जाते हैं। amazing facts in hindi



3. Amazing facts in hindi about life
amazing facts in hindi


मेघालय के मावल्यान्नांग गांव में बहने वाली 'उमंगोट नदी' जिसे भारत की सबसे साफ नदी कहा जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बता दें कि इस नदी में गंदगी करने पर 5000 रुपये तक का जुर्माना लगता है। amazing facts in hindi


3. Science amazing facts in hindi


पिरामिड की तरह दिखने वाली इस विचित्र गोभी को दुनिया भर के लोग रोमनेस्को कॉलीफ्लावर और रोमनेस्को ब्रॉकली के नाम से जानते हैं. यह सेलेक्टिव ब्रीडिंग का बेहतरीन उदाहरण है।  इसकी खास बनावट के कारण ही ये गोभी मार्केट में 2400 रुपये प्रति किलो तक की कीमत में बिकती है। 


4. amazing facts in hindi about nature
amazing facts in hindi
amazing facts in hindi

एक्पर्ट्स की मानें, तो जब संसद भवन बना, तो इसका गुंबद बहुत ही ऊंचा बनाया गया। सेंट्रल हॉल का गुंबद पूरे संसद का सेंटर है, ऐसे में उस समय जब पंखे लगाने की बारी आई तो छत काफी ऊंची थी। जिसके कारण सीलिंग फैन लगाना मुश्किल हो रहा था, लंबे डंडे के जरिए भी पंखे लगाने की कोशिश की गई लेकिन बात नहीं जमी। amazing facts in hindi

इसके बाद सेंट्रल हॉल की छत की ऊंचाई को ध्यान में रखते हुए अलग से खंभे लगाए गए। फिर उन पर उल्टे पंखे लगाए गए, जिससे हॉल के कोने-कोने तक हवा पहुंच सके,तब से ही ये पंखे इसी तरह लगे हुए हैं। संसद भवन की ऐतिहासिकता को बनाए रखने के लिए कोई बदलाव भी नहीं किया गया है। यही वजह है कि आज भी यहां उल्टे पंखे ही लगे हुए हैं। amazing facts in hindi




आप इस पोस्ट में दोबारा आइयेगा क्योकि इन सभी पोस्ट में हमेश होते रहते है।

आप सभी का हमारे वेबसाइट पर आने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ऐसी ही gk and currunt qustion के लिए आते रहिये और इस पोस्ट को शेयर कीजिये अपने ग्रुप में वाट्सएप्प पे फेसबुक पे और एक दूसरे की हेल्प कीजिये धन्यवाद। 

हमसे 24 घंटे जुड़ने के लिए और हर एक जानकारी के लिए  हमारे टेलीग्राम चैंनल को ज्वाइन करे और हमेशा अपडेट होते रहे ?




अगर बिद्यार्थियो इस साइट से कोई भी दिक्कत या हेल्प या जानकारी की जरुरत है तो आप सब हमारे कॉन्टेक्ट पेज को ओपन करे और हमारे ईमेल पर भेजे धन्यवाद।